Mujhe Germany Mein Nahin Rehna Hai

गये हफ्ते किसी ने आश्चर्य से कहा, अच्छा तुम जर्मनी में नहीं रहना चाहती हो? फट से मेरा मन किया कि कह दूँ, जर्मनी कौन सा चाँदनी चौक है?

Gaye hafte kisi ne aascharya se kaha, accha tum Germany mein nahin rehna chahti ho? Phat se mera mann kiya ki keh doon, Germany kaun sa Chandni Chowk hai?

हालाकी ऐसे काफी प्रमुख कारण हैं जिनकी वजह से मैं जर्मनी में हूँ. ऐसे काफी और कारण हैं जो कुछ और भी कहते हैं- मुझे जर्मनी में नहीं रहना है- बस मन ही नहीं लगता. कुछ चीज़ें ख़टकती हैं…

Halaki aise kafi pramukh karan hain jinki wajah se main Germany mein hoon. Aise kafi karan hai ki mujhe Germany mein nahin rehna hai- bus mann hi nahin lagta. Kuch cheezein khatakti hain…

the first autumn german living living in germany

यहाँ के लोग लड़कियों को गाय समझते हैं. यानी, उन्हे लगता है लड़कियों का अस्तित्व बच्चों को पैदा करना और उनकी देखबाल करना है. उन्हे लगता है की शादी के बाद सिर्फ़ बच्चे लड़कियों की “priority” हैं. ज़्यादा तर लड़कियाँ कुछ गिने चुने professions choose करती हैं. इसमे स्कूल अध्यापिका, नाई या फिर hair dresser, retail sales (shop), और खास कर के मार्केटिंग आम है.

Yahan ke log ladkiyon ko gaay samajhte hain. Yani, unhe lagta hai ladkiyon ka astitva bachhon ko paida karna aur unki dekhbaal karna hai. Unhe lagta hai ki shaadi ke baad sirf bacche ladkiyon ki “priority” hain. Zyada tar ladkiyan kuch gine chune professions choose karti hain. Isme school adhyapikain, nai ya phir hair dressers, shop retail sales , aur khas kar ke marketing kafi aam hai.

मार्केटिंग से याद आया की यहाँ काफ़ी लोग ऐसा मानते हैं कि उनके products इतने महान हैं कि मार्केटिंग की कोई आवश्यकता नहीं है. Brand पूरी तरह products से बनता है. काफी लड़कियाँ मार्केटिंग roles करती हैं. उनमे से काफियों का ambition शादी से पहले after work party और शादी के बाद बच्चों तक सीमित होता है.

Marketing se yaad aaya ki yahan kafi log aisa maante hain ki unke Products itne mahaan hain ki marketing ki koi aavashyakta nahin hai. Brand poori tarah product se banta hai. Kafi ladkiyaan marketing roles karti hain. Unme se kafiyon ka ambition shaadi se pehle after work party aur shaadi ke baad bacchon tak seemit hota hai.

गये हफ्ते एक बार हम दफ्तर में बात कर रहे थे तो मैने कहा, कि यहाँ तो लड़कियों को मिनिमम 6 महीने छुट्टी लेनी पड़ती है- बच्चे होने के बाद. क्योंकि उससे पहले कहीं भी day care centre मिलना मुश्किल है. काफी कम लड़कियाँ छोटी ब्रेक्स ले पातीं हैं. मैने अमरीका और इंडिया का उदाहरण दिया. उसपर एक छब्बीस वर्ष की लड़की ने चिड कर मुझे टोका और पूछा- अगर छुट्टी नहीं लेनी है तो बच्चे ही क्यों रखने हैं? इस बात पर मैने काफी विचार किया. अगर, यह लंबी छुट्टी लेना किसी का चुना हुआ विकल्प हो तो एक बात हुई, पर ऐसी society में रहना जहाँ यह माना जाता है की छोटी छुट्टी लेना वाली लड़की को उसके बच्चों से कोई लगाव नहीं है, यह बात कुछ खटकी. और फिर वह छब्बीस वर्ष की है. यह भी लगा की शायद यह विचार बदलने में अभी काफी समय लगेगा. दफ्तर में किसी ने यह भी कहा कि 1979 तक महिलाओं को जर्मनी में लिखित रूप से अपने पति या पिता से इजाज़त लेनी पड़ती थी- यदि वें काम करना चाहें. शायद यह सिर्फ सरकारी क़ागज़ी कारवाई थी, फिर भी यह सोच कर अजीब सा लगा. मैने Internet पर  इस date की जाँच नहीं की पर फिर यह लगा की इंडिया में ऐसा कोई काग़ज़ मा ने कभी नहीं दिया.

Gaye hafte ek baar hum daftar mein baat kar rahe the toh maine kaha, ki yahan toh ladkiyon ko kamsekam 6 maheene chutti leni padti hai bacche hone ke baad. Kyunki usse pehle kahin bhi day care centre milna mushkil hai. Kafi kam ladkiyaan chotti breaks le paati hain. Maine Amreerka aur India ka udharan diya. Uspar ek chabees varshiye ladki ne chid ke mujhe toka aur poocha: agar chutti nahin leni hai toh bacche hi kyun rakhne hain? Iss baat par maine kafi vichaar kiya. Agar, yeh lambi chutti lena kisi ka chuna hua vikalp ho toh ek baat hui, par aisi society mein rehna jahan yeh maana jaata hai ki chotti chutti lena wali ladki ko uske bacchon se koi lagav nahin hai, yeh baat kuch atki. Aur phir woh chabees varsh ki hai. Isse mujhe yeh bhi laga ki shayad yeh vichaar badalne mein abhi kafi waqt lagega. Daftar mein kisi ne yeh bhi kaha ki 1979 tak mahilaon ko Germany mein likhit roop se apne pati ya pita se ijazat leni padti thi- yadi woh kaam karna chahe. Shayad yeh sirf sarkari kagazi karvayi thi, phir bhi yeh soch kar ajeeb sa laga. Maine Internet par  iss Date ki jaanch nahin ki par phir yeh laga ki India mein aisa koi kagaz ma ne toh kabhi nahin diya.

मेरे पापा के मामा 1960s में वेस्ट जर्मनी आए थे. काम पर. उनका यह कहना था की काफी अच्छे लोग मिले, किंतु क्योंकि वे इंडियन थे, काफी बार उन्हे ऐसा भी लगा की वे आगे नहीं जा पाएँगे. भाषा एक और, और किसी दूसरे “3rd World” देश के सदस्य पर विश्वास रखना एक और. मैने झट से कहा वे दिन और थे. यहाँ पढ़ने के बाद मुझे लगा, ऐसा कुछ नहीं है. नौकरी करते करते कुछ नयी चीज़ें दिखने लगीं. हालाकी यह सच है की मैने कभी कोई भेद भाव नहीं देखा, कई बार यह देखा कि बिना झिझक, लोग कई सारे निष्कर्ष बना लेते. जैसे अगर इंडिया से है तो software अच्छा आता होगा, मगर कुछ और नहीं. अगर अमरीका से नहीं है तो अँग्रेज़ी नहीं बोलनी आती होगी. अगर लड़की ने बुर्क़ा पहना है या मुसलमान है तो engineer नहीं होगी.

Mere papa ke maama 1960s mein west Germany aaye the. Kaam par. Unka yeh kehna tha ki kafi acche log mile, kintu kyunki woh Indian the, kafi baar unhe aisa bhi laga ki ve aage nahin ja payenge. Bhasha ek aur, aur kisi doosre “3rd world” desh ke sadasya par vishwaas rakhna ek aur. Maine jhat se kaha woh din aur the. Yahan padhne ke baad mujhe laga, aisa kuch nahin hai. Naukri karte karte kuch nayi chezein dikhne lagin. Halaki yeh sach hai ki maine kabhi koi bhed bhaav nahin dekha, kai baar yeh dekha ki bina jhijhak, log kai saare nishkarsh bana lete. Jaise agar India se hai toh software accha aata hoga, magar kuch aur nahin. Agar ameerika se nahin hai toh angrezi nahin bolni aati hogi. Agar ladki ne burka pehna hai ya musalmaan hai toh Engineer nahin hogi.

लोग किताबी हैं. किताब में पढ़ा कि एशिया में लोग इस तरह  के होते हैं तो मान लिया. इंडिया में लोग caste system में विश्वास रखते हैं तो मान लिया. मुसलमान लड़कियों को आगे पढ़ने नहीं दिया जाता तो मान लिया. यह नहीं सोचा कि इंडिया में 1.2 billion लोग रहते हैं, सब एक समान कैसे होंगे?

Log kitaabi hain. Kitaab mein padha ki Asia mein log iss tarah ke hote hain toh maan liye. India mein log caste system mein vishwaas rakhte hain toh maan liya. Musalmaan ladkiyon ko aage padhne nahin diya jaata toh maan liye. Yeh nahin socha ki India mein 1.2 billion log rehte hain, sab ek samaan kaise honge?

युरोप का सबसे संपन्न देश, सुंदर Alps से घिरा हुआ, युरोप जैसे महाद्वीप में स्थित, देश द्वारा उपलब्ध मुफ़्त शिक्षण (PhD तक) और चिकित्सा साधन होते हुए भी, प्रतिदिन कहीं पर भी लोगों का दिन शिकायतें करे बिना आगे नहीं बढ़ता. कभी कोई project हो, तो भी मीन मेख निकले बिना काम आगे नहीं जाता. कुछ कारण यह भी है की इतिहास में काफ़ी लोगों के Hitler की निंदा स्पष्ट रूप से नहीं की, और उस तरह की परिस्थिति दुबारा उत्पन्न ना हो उस डर से, लोगों को इस सोच से बढ़ा किया जाता है की नुक्स निकलना एक अच्छी चीज़ है. यह इतहास समझते हुए भी रोज़ दफ्तर या मेट्रो में घर आते हुए दुखी नुकता चीनी वाली बातचीत सुनना खटकता है. इंडिया के आशावादी और युवा- मुमकिन है प्रव्रति की कमी महसूस होती है. और फिर अगर किसी जर्मन के काम में कुछ गलती मिली तो काफी प्रतिरक्षात्मक ढंग से पेश आते हैं. थोड़ा passive aggressive घमंड है अपनी quality पर. यदि ज़्यादा सराहना की तो उस व्यक्ति को “फेक” या फिर जाली सिध्ध किया जाता है. बड़े गर्व से लोगों को कहते सुना कि अमरीकन तो मित्र नहीं बनते क्योंकि वे उपरी सतह तक ही पहुँच पाते हैं. वे अच्छे से बात करते हैं पर दिल से नहीं. जर्मन लोगों को दोस्त बनने में समय लगता है पर वे ज़्यादा पक्के दोस्त बनते हैं. यह भी किसी किताब में ज़रूर लिखा होगा.

Europe ka sabse sampann desh, sundar Alps se ghira hua, Europe jaise mahadweep mein stith, desh dwara uplabdh muft shikshan (PhD tak) aur Chikitsa saadhan hote hue bhi, pratidin kahin par bhi logon ka din shikayatein kare bina aage nahin badhta. Kabhi koi project ho, toh bhi meen mekh nikale bina kaam aage nahin jaata. Kuch karan yeh bhi hai ki itihaas mein kafi logon ke Hitler ki ninda spasht roop se nahin ki, aur uss tarah ki stithi dubara utpann na ho uss dar se, logon ko iss soch se bada kiya jaata hai ki nuks nikalna ek acchi cheez hai. Yeh ithaas samjhte hue bhi roz daftar ya metro mein ghar aate hue dukhi nukta cheeni wali baatcheet sunna khatakta hai. India ke aashawaadi aur yuva- mumkin hai pravrati ki kami mahsoos hoti hai. Aur phir agar kissi German ke kaam mein kuch galti mili toh kafi pratirakshatmak dhang se pesh aate hain. Thoda passive aggressive ghamand hai apni quality par.  Yadi zyada sarahana ki toh uss vyakti ko “fake” ya phir jaali sidh kiya jaata hai. Bade garv se kafi baar logon ko kehte suna ki amreekan toh mitr nahin bante kyunki woh upri satah tak hi pahunch paate hain. Ve acche se baat karte hain par dil se nahin. German logon ko dost banne mein waqt lagta hai par woh zyada pakke dost bante hain. Yeh bhi kisi kitaab mein zaroor likha hoga.

इस post की विडंबना यह नहीं है की 80 million के देश को मैं भी एक ही lens से देख रही हूँ. यहाँ मेरे दोस्त भी बने, और उनमे से काफी लोग इन चीज़ों से परिचित हैं, या फिर उनका स्वभाव और व्यवहार भी निश्चित रूप से भिन्न है. उनके विचार वर्तमान विश्व धारणा को प्रकट करते हैं. इस post की विडंबना यह है की इतना कुछ समझते बूझते हुए भी में यह सोच रही हूँ कि शायद यह सब बदलने वाला है.

Iss Post ki vidambana yeh nahin hai ki 80 million ke desh ko main bhi ek hi lens se dekh rahi hoon. Yahan mere dost bhi bane, aur unme se kafi log in cheezon se parichit hain, ya phir unka swabhav aur vyavhaar bhi nishchit roop se bhinn hai. Unke vichaar vartamaan vishv dhaarna ko prakat karte hain. Iss Post ki vidambana yeh hai ki itna kuch samjhte boojhte hue bhi mein yeh soch rahi hoon ki shayad yeh sab badalne waala hai.

5 comments
  1. Loved the way you’ve captured your thoughts, experiences and beliefs about the country you’re wanting to leave. 🙂

  2. This post makes me wonder about Indian society. I believe on many levels our generation is experimenting with not so traditional things, specially when it concerns girls. We are being open to changes in traditions albeit with resistance.
    Does this mean iske comparison mein German culture ya log jyada open nahi hai to change ?
    (hindi aur english ke mix mein comment karne mein bada maja aaya :D)

    1. facebook ka conversation yaha la rahi hoon..
      ye tumhare vichaar hai kisi ek vishay ke baare mein..har jagah rahne ke challenges alag level ke hote hai..
      main 4 saal pehle jab US ki life chod ke yaha aayi tab se mujhe kaafi logon ne poocha hai, bharat aur US ki zindagi ke baare mein..
      mujhe US se koi shikayat nahi, lekin mujhe bharat ke challenges mein rehna manjoor tha 4 saal pehle (aur abhi bhi kisi hadd tak)..
      par mujhe fir bhi maja aayega nayi jagah explore kar ke waha ki human conditioning or society ke baare mein janane mein..in this regard I find you post mind opening 🙂

      1. Koi jagah perfect nahin hai…but I think more than anything good or bad experiences se I feel main khud change ho rahi hoon. It makes me grow. Biases like for girls at any level are present in all countries I think…bus styles different hain…Go to another country and tell me how it feels 🙂

Comments are closed.